जिन 63 नेताओं को जेल में होना चाहिए, वे चुनाव लड़ रहे हैं! प्रत्याशियों पर क्रिमिनल केस की लिस्ट देखिए…


सुप्रीम कोर्ट ने फरवरी में राजनीतिक दलों को निर्देश दिया था कि वे अपनी वेबसाइट पर आपराधिक छवि वाले उम्मीदवारों की रिकॉर्ड के साथ सूची अपलोड करें. साथ ही न्यायालय ने ऐसे उम्मीदवारों को टिकट दिए जाने का कारण बताने का भी निर्देश दिया था.


देश गांव
बड़ी बात Updated On :

मध्य प्रदेश उपचुनावों में तमाम राजनीतिक दलों ने सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों की अनदेखी कर भारी संख्या में आपराधिक छवि वाले लोगों को उम्मीदवार बना कर मैदान में उतारा है. यह बात एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (एडीआर) की रिपोर्ट में सामने आयी है। 

एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (एडीआर) की रिपोर्ट के अनुसार मध्य प्रदेश उपचुनावों में 355 में से 63 उम्मीदवारों ने खुद के खिलाफ आपराधिक मामले घोषित किये हैं. इनमें से 39 उम्मीदवारों के खिलाफ गंभीर मामले दर्ज हैं. रिपोर्ट के अनुसार ये ऐसे गंभीर आपराधिक मामले हैं जो गैर-जमानती हैं और इन मामलों में 5 साल से अधिक की सज़ा का प्रावधान है.

चुनाव आयोग में दाखिल किये गये हलफ़नामे के अनुसार मुख्य दलों में, कांग्रेस के 28 में से 14 यानी (50 फीसदी) उम्मीदवार और बीजेपी के 28 में से 12 (43 फीसदी) उम्मीदवारों के खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज हैं. वहीं बहुजन समाजवादी पार्टी के 28 में से 8 यानी 29 फीसदी उम्मीदवार, समाजवादी पार्टी के 14 में से 4 उम्मीदवार (29 फीसदी) और 178 निर्दलीय उम्मीदवारों में से 16 (9 फीसदी) उम्मीदवारों ने अपने खिलाफ दर्ज आपराधिक मामलों का खुलासा किया है.

एडीआर के अनुसार कांग्रेस के 28 में से 6 उम्मीदवारों, भारतीय जनता पार्टी के 8 उम्मीदवारों ने अपने हलफनामें में खुद के खिलाफ गंभीर आपराधिक मामलों का जिक्र किया है. वहीं बीएसपी के 28 में से तीन और समाजवादी पार्टी के 14 में से 4 और निर्दलीय 178 में से 13 उम्मीदवारों के खिलाफ़ गंभीर मामले दर्ज हैं.

एक उम्मीदवार के खिलाफ हत्या आइपीसी की धारा 302 और 7 उम्मीवारों के खिलाफ़ हत्या के प्रयास  आइपीसी की धारा 307 का मामला दर्ज है.

याद हो कि, सुप्रीम कोर्ट ने बीते फरवरी में तमाम राजनीतिक दलों को निर्देश दिया था कि सभी दल अपनी वेबसाइट पर आपराधिक छवि वाले उम्मीदवारों की आपराधिक रिकॉर्ड के साथ सूची अपलोड करें. साथ ही सर्वोच्च न्यायालय ने ऐसे उम्मीदवारों को टिकट दिए जाने का कारण बताने का भी निर्देश दिया था.

मध्य प्रदेश इलेक्शन वाच और एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफार्म्स ने मध्य प्रदेश की 28 सीटों पर होने जा रहे उपचुनाव में चुनाव लड़ रहे 355 उम्मीदवारों के शपथपत्रों का विश्लेषण किया है. इसकी पूरी रिपोर्ट नीचे दिए लिंक पर जाकर पढ़ी जा सकती है:

Analysis of Criminal Financial and other Details of Candidates Madhya Pradesh Bye Election 2020 Hindi

रिपोर्ट के अनुसार, 355 में से 80 यानी 23 प्रतिशत उम्मीदवार करोड़पति हैं. जिनमें बीजेपी के  23, कांग्रेस के 28 में से 22 उम्मीदवार हैं. वहीं, बीएसपी के 28 में से 23, समाजवादी पार्टी के  14 में से 2 और 178 निर्दलीय उम्मीदवारों में से 14 लोग करोडपति हैं. मध्यप्रदेश की 28 विधानसभा सीटों पर 3 नवम्बर को मतदान होंगे.



Related