कैलाश विजयवर्गीय और सज्जन वर्मा को EC का नोटिस, कमलनाथ को चेतावनी


नोटिस के अनुसार इंदौर के सांवेर में 14 अक्टूबर को एक चुनावी सभा में दोनों कांग्रेस नेताओं के खिलाफ कैलाश विजयवर्गीय का दिया गया बयान आचार संहिता के प्रावधानों का उल्लंघन करने वाला पाया गया है. वहीं  आयोग ने कांग्रेस नेता सज्जन सिंह वर्मा को भी नोटिस जारी किया है. सज्जन वर्मा को उपचुनाव के लिए लागू की गई आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन के लिए जारी किया है.


देश गांव
बड़ी बात Updated On :

मध्यप्रदेश में उपचुनाव के लिए प्रचार के दौरान टीका-टिप्पणियों को लेकर चुनाव आयोग ने भाजपा नेता कैलाश विजयवर्गीय को कांग्रेस नेताओं दिग्विजय सिंह तथा कमल नाथ के खिलाफ उनकी कथित ‘चुन्नू-मुन्नू’ वाली टिप्पणी के लिए नोटिस जारी कर अगले 48 घंटे में जवाब देने को कहा. नोटिस मध्यप्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी से प्राप्त रिपोर्ट पर आधारित है.

नोटिस के अनुसार इंदौर के सांवेर में 14 अक्टूबर को एक चुनावी सभा में दोनों कांग्रेस नेताओं के खिलाफ कैलाश विजयवर्गीय का दिया गया बयान आचार संहिता के प्रावधानों का उल्लंघन करने वाला पाया गया है.

वहीं  आयोग ने कांग्रेस नेता सज्जन सिंह वर्मा को भी नोटिस जारी किया है. सज्जन वर्मा को उपचुनाव के लिए लागू की गई आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन के लिए जारी किया है.

 

नोटिस के मुताबिक सज्जन सिंह वर्मा ने विजयवर्गीय को ‘रावण’ कह कर संबोधित किया था. उन्होंने रैली के दौरान कहा था, ‘दशहरा जैसे-जैसे पास आता है उसका चेहरा रावण जैसा हो जाता है.’ वहीं विजयवर्गीय ने अपनी रैली के दौरान कमलनाथ और दिग्विजय सिंह को ‘चुन्नू-मुन्नू’ कह कर संबोधित किया था.

चुनाव आयोग ने ‘आइटम’ वाली टिप्पणी पर कांग्रेस नेता और मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम कमल नाथ को चेतावनी देते हुए कहा  है  कि उन्हें आदर्श आचार संहिता की अवधि के दौरान इस तरह के (“आइटम” टिप्पणी) शब्द या बयान का उपयोग नहीं करना चाहिए.

 

मध्य प्रदेश की 28 विधानसभा सीटों के लिए तीन नवंबर को उपचुनाव होने हैं और प्रचार चल रहा है.

इस उपचुनाव में भाजपा और कांग्रेस दोनों ही दल एक दूसरे के खिलाफ ताबड़तोड़ शिकायत दर्ज करा रहे हैं. इस शिकायतबाजी में कांग्रेस, भाजपा से आगे निकल गई है. कांग्रेस ने सबसे ज्यादा शिकायतें जिला स्तर के साथ भोपाल में राज्य निर्वाचन आयोग में की है.

भाजपा और कांग्रेस की लीगल सेल चुनाव आयोग में लगातार शिकायत दर्ज करा रही हैं. लीगल सेल विरोधी दलों पर नजर बनाए हुए हैं. कांग्रेस अब तक सबसे ज्यादा शिकायत चुनाव आयोग में कर चुकी है. शिकायतों का ये दौर अभी भी जारी है. भाजपा ने अब तक 140 शिकायत कीं. इनमें से 40 शिकायतें भोपाल में चुनाव आयोग में दर्ज कराई गयीं. कांग्रेस ने अभी तक 200 शिकायतें कीं. इनमें से सबसे ज्यादा शिकायत भोपाल में चुनाव आयोग में दर्ज करायी गयीं. चुनाव आयोग सभी दलों की शिकायतों पर कार्रवाई कर रहा है.

 

 



Related