एसडीएम ने पीपीई किट पहनकर कोविड आईसीयू में भर्ती मरीजों से मुलाकात कर बढ़ाया उनका हौंसला


कोरोना संक्रमित मरीजों से जहां एक ओर परिजन से लेकर रिश्तेदार तक दूर भाग रहे हैं, वहीं दूसरी ओर धार एसडीएम दिव्या पटेल कोविड झोन में भर्ती मरीजों तक पहुंचकर उनके स्वास्थ्य की पूरी जानकारी ले रही हैं।


देश गांव
धार Updated On :
dhar-sdm

कैसे हैं आप? किसी भी प्रकार की दिक्कत तो नहीं? ऑक्सीजन तो समय पर मिल रहा है? हिम्मत रखें, जल्द सबकुछ ठीक होगा।

कुछ इस तरह का संवाद कल रात के समय एसडीएम दिव्या पटेल के द्वारा कोरोना संक्रमित मरीजों से किया गया।

कोरोना संक्रमित मरीजों से जहां एक ओर परिजन से लेकर रिश्तेदार तक दूर भाग रहे हैं, वहीं दूसरी ओर धार एसडीएम दिव्या पटेल कोविड झोन में भर्ती मरीजों तक पहुंचकर उनके स्वास्थ्य की पूरी जानकारी ले रही हैं।

लगातार अनुभाग क्षेत्र में भ्रमण से लेकर कोविड सेंटर का औचक निरीक्षण भी एसडीएम पटेल के द्वारा किया जा रहा है।

जिला अस्पताल के कोविड झोन में बनाए गए आईसीयू के निरीक्षण करने के लिए एसडीएम दिव्या पटेल पीपीई किट पहनकर पहुंचीं।

ऑक्सीजन लेबल पहले से बेहतर हुआ –

अस्पताल परिसर में बनाए गए दोनों आईसीयू वार्ड का निरीक्षण एसडीएम पटेल के द्वारा किया गया। यहां पर राजस्व विभाग के आरआई भी पिछले दिनों संक्रमित होने पर भर्ती हुए थे।

ऐसे में अपने बीच में विभाग की अधिकारी को देखकर आरआई की आंखों से आंसू निकल गए, जिस पर एसडीएम पटेल ने कहा कि हिम्मत रखें जल्द ही सबकुछ ठीक हो जाएगा।

आप यहां भर्ती हैं तो अपने परिजनों की चिंता नहीं करें। उनके साथ विभाग लगातार संपर्क में बना हुआ है। करीब डेढ़ घंटे के निरीक्षण के दौरान जिला महामारी नियंत्रण अधिकारी डॉ. संजय भंडारी भी एसडीएम के साथ मौजूद थे।

एसडीएम पटेल ने कई मरीजों का ऑक्सीजन लेबल भी अपने सामने चेक करवाया व मरीजों का आत्मविश्वास बढ़ाते हुए कहा कि देखिए आप आए थे, तब 50 से 60 के करीब था। अब 90 से ऊपर पहुंच चुका है। किसी भी प्रकार की चिंता करने की जरुरत नहीं है।

दोनों झोन में कुल 46 मरीज भर्ती थे। प्रत्येक मरीज से एसडीएम व उनकी टीम ने पीपीई किट पहनकर संवाद किया व हौंसला बढ़ाने की कोशिश की।

divya-patelआईसीयू का औचक निरीक्षण करने के पीछे मंशा यह थी कि वहां पर भर्ती मरीजों को संपूर्ण उपचार समय पर मिले। साथ ही मरीजों से मिलकर उनका हौंसला भी बढ़ाया गया है। संक्रमित मरीजों को बताया गया कि चिंता करने की कोई बात नहीं है। जल्द ही स्वस्थ होकर घर लौट जाएंगे। उन्हें स्वयं पर भरोसा रखना होगा। भर्ती होने के बाद से कई मरीज पहले से ठीक हो चुके हैं। डॉक्टर व उनका संपूर्ण स्टाफ मरीजों की दिन-रात सेवा कर उन्हें स्वस्थ करने में लगा हुआ है।

– दिव्या पटेल, एसडीएम, धार