कपास निगम के नए आदेश पर किसानों का विरोध, खरगोन में जाम किया हाईवे


किसानों ने बताया कि सीसीआई कपास खरीदी में लापरवाही कर रही है। सीसीआई कभी भी खरीदी शुरू कर देती है कभी बंद कर देती है। ऐसे में किसानों को मजबूरी में कम भाव में कपास बेचना पड़ता है।


देश गांव
इन्दौर Updated On :

इंदौर। कपास किसानों ने मंगलवार को सनावद मंडी में हंगामा किया। इन किसानों ने इस दौरान इंदौर-इच्छापुर हाईवे भी जाम कर दिया। जिससे काफी देर तक आवाजाही बंद रही।  किसानों का विरोध सीसीआई यानी भारतीय कपास निगम के नए आदेश को लेकर था। जिसके तहत मंडी में कपास की खरीदी को सीमित किया जा रहा है। किसानों ने निगम के प्रबंधक पर मनमानी करने का आरोप लगाया है। बुधवार को सांसद नंदकुमार सिंह चौहान भी क्षेत्र में थे लेकिन किसानों ने बताया कि उन्हें सूचना देने पर भी वे उनकी समस्या सुनने नहीं आए।

निमाड़ क्षेत्र में कपास किसानों की मुश्किलें कम नहीं हो रहीं हैं। किसानों की नाराज़गी भारतीय कपास निगम से है। अब निगम ने मंडियों में कपास की आवक नियंत्रित करने के लिए नियम बना दिया है। ऐसे में अब पांच सौ क्विंटल से ज्यादा कपास की खरीदी नहीं हो सकेगी।

खरगोन में भारतीय किसान संघ के जिलाध्यक्ष श्याम पंवार ने बताया कि सीसीआई कपास खरीदी में लापरवाही कर रही है। सीसीआई कभी भी खरीदी शुरू कर देती है कभी बंद कर देती है। ऐसे में किसानों को मजबूरी में कम भाव में कपास बेचना पड़ता है।

उन्होंने बताया कि सीसीआई के नए नियम के अनुसार अब रोजाना मात्र 500 क्विंटल कपास की खरीदी की जाएगी और इतना कपास तो बीस गाड़ियों में ही आ जाएगा जबकि मंडी में रोज़ाना 250 से अधिक वाहन आते हैं और करीब 50 से अधिक बैलगाड़ियां भी कपास लेकर आती हैं। ऐसे में किसानों को कितना इंतजार करना होगा। खरीदी में देरी होने पर कपास की गुणवत्ता भी प्रभावित होगी और सीसीआई फिर कपास खरीदी में गुणवत्ता का हवाला देकर आनाकानी करेगा।

किसान नेता पंवार ने बताया कि पहले ही इस बार कपास किसानों पर मौसम की मार पड़ी है और जिसका असर फसल पर भी हुआ है और किसान परेशान हैं और अब यह नया फरमान तो और भी परेशान करने वाला है।

किसानों द्वारा लगाए गए जाम के चलते हाईवे के दोनों ओर वाहनों की लंबी कतार लग गई। यहां कई जरूरी सेवाओं के वाहनों को भी मुश्किल हुई हालांकि इन्हें किसानों ने ही निकाला। इनमें एक एंबुलेंस भी शामिल थी। इस दौरान पुलिस और प्रशासन की टीम मौके पर पहुंची और किसी तरह रास्ता खुलवाया गया।



Related