भारत जोड़ो यात्रा के झंडे पुल पर गाड़े, आई दरार


राहुल गांधी की इस यात्रा को लेकर कांग्रेसियों में अति उत्साह व जोश है और इसी के तहत उन्होंने राहुल गांधी की सभा रात्रि विश्राम स्थल को पूरी तरह अपने पार्टी के झंडे बैनर व फोटो से पाट दिया है।


देश गांव
इन्दौर Published On :

इंदौर। महू में भारत यात्रा छोड़ो के तहत राहुल गांधी के स्वागत सत्कार में स्थानीय नेता कार्यकर्ता उत्साहित हो कर कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं। इस अति उत्साह में कार्यकर्ताओं ने किशनगंज क्षेत्र में नदी के ऊपर पुल के ऊपर झंडे बैनर के लिए ठोके गए खंबे के कारण पुल को छतिग्रस्त कर दिया। इससे पुल में दरार पैदा हो गई अब इससे पुल के कमज़ोर होने और भविष्य में यहां किसी हादसे की आशंका जताई जा रही है।

26 नवंबर को भारत जोड़ो यात्रा के तहत राहुल गांधी शाम छह बजे महू पहुंच जाएंगे। राहुल गांधी की इस यात्रा को लेकर कांग्रेसियों में अति उत्साह व जोश है और इसी के तहत उन्होंने राहुल गांधी की सभा रात्रि विश्राम स्थल को पूरी तरह अपने पार्टी के झंडे बैनर व फोटो से पाट दिया है। यही नहीं दशहरा मैदान से इंदौर तक के मार्ग में नेताओं ने अपने झंडे पर सजा रखा है।

नेताओं और कार्यकर्ताओं ने जगह-जगह झंडे बैनर फोटो के पोस्टर लगा रखे हैं और इसी उत्साह के चलते उन्होंने किशनगंज नदी के ऊपर बने पुल को भी झंडे बैनर से पाट दिया। इस झंडे बैनर के लिए उन्होंने पुल के उन हिस्सों में भी खंभा ठोक दिया जहां डामर व सिमेंट कंक्रीट का जोड़ था जिस कारण पुल में अब दरार पैदा हो गई है।

इन खंभों के लिए गड्ढे इतने गहरे खोदे गए कि उपर से नीचे नदी में बहता हुआ पानी तक साफ दिखाई देने लगा है। दरार के कारण कभी भी आने वाले दिनों में एक बड़ी घटना हो सकती है क्योंकि महू इंदौर को जोड़ने वाला यह एकमात्र रास्ता व पुल है जिस पर से प्रतिदिन हजारों वाहन आवागमन करते हैं। प्रशासन का कहना है कि यह कोई सरकारी यात्रा नहीं है। इसके लिए हम जिम्मेदार नहीं हैं। जिम्मेदार कौन होगा, यह एक प्रश्न ही है।

 

वरना नहीं होती सभा –

ड्रीमलैंड चौराहे पर राहुल गांधी की सभा को लेकर गुरुवार की शाम तक संशय बना हुआ था क्योंकि इस सभा के लिए आए विशेष दल के सदस्यों ने स्पष्ट तौर पर कह दिया था कि अगर शुक्रवार की सुबह तक मंच तैयार नहीं मिला तो शनिवार को राहुल गांधी की सभा होना नामुमकिन है क्योंकि शुक्रवार की सुबह जब मंच तैयार होगा तो शाम तक वे इसके लिए अनापत्ति पत्र जारी करेंगे।

इसके बाद  रात 12 बजे से मंच बनाने का काम शुरू कर दिया गया व मंच के सामने हरे-भरे वृक्षों की छंटाई भी रात को ही शुरू कर दी गई थी।

राहुल गांधी छावनी परिषद के दशहरा मैदान पर रात्रि विश्राम करेंगे। इसके लिए शुक्रवार की रात तक इस मैदान को व्यवस्थित करने का व टेंट लगाने का काम जारी था।

इस मैदान पर छावनी परिषद द्वारा लाखों रुपये खर्च कर खेल प्रशाल बनाया जा रहा था, लेकिन अब इसके कारण वह काम ठप हो गया।