अघोषित लॉकडाउन! महू शहर की आठ गलियां बंद, प्रशासन की चिंता बढ़ी


— सक्रिय मामलों के चलते बंद किये गए रास्ते
— आठ गलियां बंद, आगे भी आशंका
— सात दिनों तक रहेगा बंद


अरूण सोलंकी अरूण सोलंकी
इन्दौर Updated On :

महू। कोरोना का सबसे खतरनाक रुप इन दिनों देखने को मिल रहा है। महू तहसील में बीते दो दिनों यानी केवल शुक्रवार और शनिवार में ही क्रमशः 67 और 52 कुल 119 संक्रमित मिल चुके हैं।

फिलहाल यहां 371 सक्रिय संक्रमित हो चुके हैं। ऐसे में प्रशासन ने कुछ कड़े निर्णय लिये हैं। जिसके बाद शहर में माइक्रो कन्टेंमेंट ज़ोन बनाए जा रहे हैं। शनिवार को शहर में पहला कंटेन्मेंट ज़ोन बनाया गया है।

इस दौरान मेन स्ट्रीट को जोड़ने वाली आठ गलियों को पूरी तरह बंद कर दिया गया है। छावनी परिषद के स्वास्थ्य अधीक्षक मनीष अग्रवाल के मुताबिक यह गलियां सात दिनों के लिए बंद की गई हैं।

इस दौरान लोग सीधे मेन स्ट्रीट में नहीं जा सकेंगे हालांकि घूम कर जाने वाला विकल्प खुला रहेगा। ऐसे में मेन स्ट्रीट में कम यातायात जाएगा।

Mhow lockdown

माइक्रो कंन्टेंनमेंट ज़ोन की इस कवायद में जिन आठ गलियों को बंद किया गया है उनमें टीन गली, कनाट रोड,  रेडक्रॉस रोड, चूड़ी गली, आधा कुआं गली, दर्जीधर्मशाला गली, हीरातारा गली और पारसी गली बंद कर दी गई हैं। इस तरह इन गलियों में से होकर सीधे मेन स्ट्रीट पहुंचना मुश्किल होगा।

एसडीएम अभिलाष मिश्रा के मुताबिक ये कंटेन्मेंट ज़ोन उन इलाकों में बनाए जा रहे हैं जहां संक्रमण के ज्यादा मामले मिल रहे हैं। इस दौरान उन इलाकों की दुकानें और दूसरे प्रतिष्ठान बंद रखे जाएंगे।

इसे लेकर व्यापारियों में ख़ासी चिंता है। कुछ व्यापारियों के मुताबिक यह अघोषित लॉकडाउन जैसी स्थिति बन रही है। जो व्यापार को ख़ासा नुकसान पहुंचाएगा।

एसडीएम के मुताबिक जहां-जहां गलियां बंद की जा रहीं हैं वहां संक्रमितों की संख्या ज्यादा है। मेन स्ट्रीट में ही करीब सोलह सक्रिय मामले हैं। जबकि कई लोग पहले भी यहां संक्रमित होकर ठीक हो चुके हैं।

हालांकि यहां के लोग होम आइसोलेट होने की बजाय बाजारों में घूम रहे हैं जिसके चलते स्थिति बिगड़ रही है।

Mhow lockdown street

ख़बरों की मानें तो आने वाले दिनों में महू शहर के कई और इलाके भी इस तरह घेरे जा सकते हैं। इनमें सांघी स्ट्रीट और एमजी रोड भी बंद किये जा सकते हैं। इन इलाकों में ज्यादा मामले मिल रहे हैं।

हालांकि इन इलाकों को बंद किया जाएगा या नहीं इसके बारे में स्पष्ट रुप से फिलहाल कुछ नहीं कहा जा सकता है।