छात्रों से अभद्र भाषा में बात करने पर झाबुआ एसपी को हटाया गया, भोपाल मुख्यालय अटैच किया


मुख्यमंत्री ने सोमवार सुबह मुख्‍य सचिव व डीजीपी को झाबुआ एसपी अरविंद तिवारी को तत्काल प्रभाव से हटाने के निर्देश दिए जिसके बाद उन्हें भोपाल मुख्यालय में अटैच कर दिया गया है।


देश गांव
घर की बात Published On :
jhabua sp arvind tiwari

भोपाल/झाबुआ। झाबुआ में पॉलिटेक्निक कॉलेज के छात्रों से एसपी अरविंद तिवारी की मोबाइल पर अभद्रतापूर्वक बात करने का ऑडियो वायरल होने के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने तत्काल एक्शन लेते हुए उन्हें तत्काल पद से हटा दिया।

मुख्यमंत्री ने सोमवार सुबह अपने निवास कार्यालय पर बैठक में मुख्‍य सचिव व डीजीपी को झाबुआ एसपी अरविंद तिवारी को तत्काल प्रभाव से हटाने के निर्देश दिए जिसके बाद उन्हें भोपाल मुख्यालय में सहायक पुलिस महानिरीक्षक के तौर पर अटैच कर दिया गया है।

सीएम चौहान ने इस दौरान कहा कि जिस भाषा मे एसपी छात्रों से बात कर रहे थे, वह अत्यंत ही आपत्तिजनक है और उन्हें तत्काल पद से हटाया जाए।

सीएम के निर्देश के बाद झाबुआ के पुलिस अधीक्षक अरविंद तिवारी को हटाकर पुलिस मुख्यालय में पदस्थ किए जाने का आदेश गृह विभाग ने जारी कर दिया है।

बता दें कि रविवार रात पॉलिटेक्निक कॉलेज के हॉस्टल में शराब के नशे में कुछ छात्रों के बीच लड़ाई हो गई। छात्र इसकी शिकायत करने थाने पहुंचे, लेकिन पुलिस ने उन्हें वापस हॉस्टल जाने के लिए कहा।

इसके बाद छात्रों ने एसपी अरविंद तिवारी को फोन कर प्रोटेक्शन की मांग की। छात्रों का आरोप है कि एसपी ने उनसे फोन पर अभद्रता की। एसपी ने छात्रों से सहानुभूति जताने की बजाय गाली-गलौच वाली भाषा में बात की और साथ ही छात्र को थाने में जूते मारकर बंद करने की बात भी कही।

जब छात्र ने कहा कि वे 40 छात्र हैं, तो एसपी ने कहा दिया कि 40 को ही थाने में बंद कर देंगे। थाने से अच्छी सुरक्षा कहीं नहीं मिल सकती है। इस बीच उसने मोबाइल पर पूरी बातचीत रिकॉर्ड कर ली थी।

उसने ऑडियो अपने कुछ दोस्तों को भेजा। देखते ही देखते वह ऑडियो वायरल हो गया। झाबुआ से भोपाल के अधिकारियों तक जा पहुंचा और मुख्यमंत्री ने भी यह ऑडियो सुन लिया।