Assembly Elections 2022: UP-पंजाब समेत पांच राज्यों में चुनाव तारीखों का ऐलान, 10 मार्च को आएंगे नतीजे


उत्तराखंड, पंजाब, गोवा में एक-एक चरण में जबकि मणिपुर में दो और उत्तर प्रदेश में सात चरणों में मतदात करवाया जाएगा। मतदान की शुरुआत उत्तर प्रदेश में 10 फरवरी से होगी और सभी राज्यों में एकसाथ 10 मार्च को ही नतीजे घोषित किए जाएंगे।


देश गांव
बड़ी बात Updated On :
eci sushil chandra

नई दिल्ली। उत्‍तर प्रदेश, उत्‍तराखंड, पंजाब, गोवा और मणिपुर में होने जा रहे विधानसभा चुनावों (assembly elections 2022) की तारीखों का ऐलान चुनाव आयोग ने कर दिया है।

मुख्य निर्वाचन आयुक्त सुशील चंद्र व दो अन्य चुनाव आयुक्तो ने नई दिल्ली स्थित विज्ञान भवन में आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में पांच राज्यों में चुनाव के तारीखों का ऐलान किया।

उत्तराखंड, पंजाब, गोवा में एक-एक चरण में जबकि मणिपुर में दो और उत्तर प्रदेश में सात चरणों में मतदात करवाया जाएगा। मतदान की शुरुआत उत्तर प्रदेश में 10 फरवरी से होगी और सभी राज्यों में एकसाथ 10 मार्च को ही नतीजे घोषित किए जाएंगे।

पंजाब, उत्तराखंड और गोवा में 14 फरवरी को व मणिपुर में 27 फरवरी और 3 मार्च को मतदान होगा। उत्तर प्रदेश में पहले फेज का मतदान 10 फरवरी को होगा। दूसरा फेज का मतदान 14 फरवरी को होगा। तीसरा फेज 20 फरवरी और चौथा फेज 23 फरवरी को, पांचवां फेज 27 फरवरी को होगा।

मुख्य चुनाव आयुक्त चंद्रा ने कहा कि चुनावों के दौरान सख्त प्रोटोकॉल का पालन कराया जाएगा और 15 जनवरी तक किसी भी तरह के रोड शो, रैली, पद यात्रा, साइकिल और स्कूटर रैली की इजाजत नहीं होगी।

वर्चुअल रैली के जरिए ही चुनाव प्रचार की इजाजत होगी। जीत के बाद विजय जुलूस की इजाजत नहीं होगी।

कोरोना के बीच चुनाव कराने के लिए नए प्रोटोकॉल लागू किए जाएंगे। सभी चुनाव कर्मियों को कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज लगी होगी। जिन्हें जरूरत होगी, उन्हें प्रिकॉशन डोज भी लगाई जाएगी।

पांच राज्यों में चुनाव में कुल 18.34 करोड़ वोटर हैं जिनमें 8.55 करोड़ महिला मतदाता हैं। कुल 24.9 लाख मतदाता पहली बार वोट डालेंगे जिनमें 11.4 लाख लड़कियां पहली बार मतदान करेंगी।

 

सभी बूथ पर महिला और पुरुष सुरक्षाकर्मी तैनात रहेंगे। दिव्यांगों के लिए स्पेशल इंतजाम होंगे। हर बूथ पर व्हील चेयर उपलब्ध कराई जाएगी। कोरोना संक्रमित के घर वीडियो टीम के साथ चुनाव आय़ोग की टीम विशेष वैन से जाएगी और मतदान कराएगी।

आयोग ने सरकारी कर्मचारियों के अलावा 80 वर्षीय से ज्यादा उम्र के नागरिकों, दिव्यांगों और कोरोना संक्रमितों के लिए पोस्टल बैलेट की व्यवस्था की है।



Related