दूसरी लहर के धीमे होने के बाद CM शिवराज अगली तैयारी में जुटे, वैक्सीनेशन व टेस्टिंग को लेकर कई दावे


सरकार ने साफ संकेत दिये हैं कि आने वाले दिनों में टेस्टिंग और वैक्सीनेशन को और भी बढ़ाया जाएगा।


देश गांव
भोपाल Updated On :

भोपाल। मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर अब लगभग थमने को है। प्रदेश सरकार इसे अपनी सफलता बता रही है और इसके साथ तीसरी लहर की तैयारी भी की जा रही है। इस बीच मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान बहुत सी नई योजनाएं बना रहे हैं और इन पर जनता का सहयोग और सुझाव दोनों मांग रहे हैं।

मध्यप्रदेश में कोरोना संक्रमण को लेकर अब स्थिति नियंत्रण में नजर आ रही है। ऐसे में लोगो को उम्मीद है कि सरकार जल्दी ही  पूरी तरह अनल़ॉक किये जाने को लेकर कोई फैसला कर सकती है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी इसके संकेत दिये हैं। सीएम ने रविवार को क्राइसिस मैनेजमेंट की प्रशंसा की और कहा कि आज प्रदेश में बहुत ही सुखद स्थिति है।

उन्होंने कहा कि सब कुछ चलाना है, लेकिन सावधानी रखना भी जरूरी है। क्या कब तक बंद रहेगा और किसे छूट मिलेगी, ये क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटियां ही तय करेंगी। सीएम ने कहा कि सभी देशों में कोरोना के केस लॉकडाउन खुलने के बाद बढ़ गए हैं। तीसरी लहर दिखाई दे रही है। ऐसे में क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी का काम खत्म नहीं हुआ। उन्होंने कहा कि इस ढांचे को हम बनाए रखना चाहते हैं।

प्रदेश में रविवार को संक्रमण की दर 0.3 प्रतिशत रही। वहीं यहां के बड़े शहरों में कोरोना संक्रमण की बात करें तो अब इंदौर, भोपाल, जबलपुर और ग्वालियर में कोई बहुत अधिक संक्रमण के मामले नहीं मिल रहे हैं। वहीं करीब बीस जिलों में रविवार को एक भी संक्रमित नहीं मिला।

सरकार ने साफ संकेत दिये हैं कि आने वाले दिनों में टेस्टिंग और वैक्सीनेशन को और भी बढ़ाया जाएगा। हालांकि वैक्सीन की कमी के कारण टीकाकरण का काम लगातार रुक रहा है लेकिन मुख्यमंत्री शिवराज के मुताबिक जुलाई के महीने में वैक्सीन की पर्याप्त व्यवस्था होगी।

इसके अलावा सीएम ने आने वाले दिनों में प्रतिदिन अस्सी हजार टेस्ट रोज करने की बात कही है। उन्होंने कहा है कि कोशिश होगी कि कोई भी संक्रमित छूट न पाए।

टेस्टिंग के बारे में बात करते हुए सीएम ने कहा कि पॉजिटिव केस में से प्रत्येक की कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग करेंगे। संपर्क में आए लोगों का भी टेस्ट होगा। जो पॉजिटिव हैं अभी भी उसे आइसोलेशन में रखें। घर में या कोविड केयर सेंटर हम चलाएंगे, वहां रखें। गांव में सर्दी, जुखाम, बुखार वहां तत्काल दवाई दें।’



Related