थाने में बंद आरोपी की बेरहमी से पिटाई व नाखून उखाड़े, परिजनों के आरोप के बाद टीआई लाइन अटैच


जनता कर्फ्यू में पुलिस का बेरहम चेहरा आया सामने, युवक को 72 घंटे तक थाने में रखकर बेरहमी से की पिटाई, पैर के नाखून निकालने के परिजनों ने लगाए आरोप।


देश गांव
इन्दौर Updated On :
indore-accused-beaten

इंदौर। अपराध के एक मामले में आरोपी बदमाश को तीन दिनों तक आजाद नगर थाने में बंद कर उसकी पिटाई करने और उसके नाखून निकालने का मामला सामने आने के बाद आजाद नगर टीआई मनीष डावर को वरिष्ठ अधिकारियों ने देर रात लाइन अटैच कर दिया।

परिजनों ने आरोप लगाया है कि टीआई मनीष डावर द्वारा उनसे एक लाख रुपये की मांग की गई थी। पैसे नहीं देने पर उन्होंने आरोपी की जमकर पिटाई की और वरिष्ठ अधिकारियों से मामले को छिपाया। अब पूरे मामले की जांच वरिष्ठ अधिकारी कर रहे हैं।

आजाद नगर थाना क्षेत्र में तीन दिन पहले रामराज नाम के युवक को पुलिस ने मारपीट के मामले मे पकडा था। परिजनों की मानें तो आजाद नगर टीआई ने एक लाख रुपये परिजनों से आरोपी को छोड़ने के एवज में मांगे थे जो नहीं देने पर उसे थाने में ही बंद कर जमकर पीटा गया।

आरोपी मौका पाकर दो दिन पहले हथकड़ी सहित थाने से भाग निकला तो पुलिस ने कुछ घंटों बाद उसे घेराबंदी कर फिर से पकड़ा और थाने लाकर उसके पैरों के नाखून निकालकर उसके पैर तोड़ दिए थे जबकि नियमानुसार आरोपी को 24 घंटे में कोर्ट में पेश करना होता है।

मामले का वीडियो सोशल मीडिया में आने के बाद हंगामा मच गया। आरोपी के परिवार के लोग उसके दो छोटे-छोटे बच्चों के साथ पिछले तीन दिन से थाने के बार बैठे थे।

देर रात मीडिया द्वारा उठाए गए मामले की जानकारी सामने आते ही वरिष्ठ अधिकारियों ने टीआई मनीष डावर को तुरंत लाइन अटैच कर दिया और सीएसपी नंदिनी शर्मा को मामले की जांच सौंपी है।

टीआई द्वारा लापरवाही और वसूली का यह पहला मामला नहीं है। पिछले दिनों भी वसूली के चलते सोशल मीडिया और क्षेत्र के लोगों ने उनके खिलाफ लिखा था। अब देखना होगा कि टीआई को वरिष्ठ अधिकारी किस तरह की सजा देते हैं।