उज्जैन: जहरीली शराब से 14 की मौत में 71 गिरफ्तार, गृह सचिव राजौरा भी पहुंचे जांच करने


उज्जैन में जहरीली शराब के सेवन से 10 मजदूरों समेत 14 लोगों की मौत हो गई। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने एसआईटी का गठन कर दिया है और मामले में अपर मुख्य सचिव (गृह) से रिपोर्ट मांगी है। मामले की जांच के लिए गृह विभाग के सचिव की अगुवाई में पांच सदस्यीय टीम शुक्रवार को उज्जैन पहुंची है। यहां दो दिन रहकर टीम जांच के बाद रिपोर्ट तैयार करेगी।


देश गांव
उज्जैन Updated On :
गृह सचिव राजेश राजौरा जांच के लिए पहुंचे इंदौर

गृह सचिव राजेश राजौरा जांच के लिए पहुंचे इंदौर


उज्जैन। उज्जैन में पिछले 24 घंटे में जहरीली शराब के सेवन से 14 लोगों की मौत हो गई। बुधवार को सात मौतों के बाद गुरुवार को भी सात लोगों ने इस शराब के कारण दम तोड़ दिया। पुलिस ने अब तक मामले में 71 लॆगों को गिरफ्तार किया है।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने एसआईटी का गठन कर दिया है और मामले में अपर मुख्य सचिव (गृह) से रिपोर्ट मांगी है। मामले की जांच के लिए गृह विभाग के सचिव की अगुवाई में पांच सदस्यीय टीम शुक्रवार को उज्जैन पहुंची।  इनमें गृह विभाग के सचिव राजेश राजौरा, एडीजी एस के झा और रतलाम डीआईजी सुशांत सक्सेना शामिल हैं।

कलेक्टर आशीष सिंह  ने जहरीली शराब बनाने वालों पर रासुका लगा दी।  एसआईटी दो दिनों बाद अपनी रिपोर्ट सौंपेगी। इसके पहले गुरुवार को उज्जैन के एसपी मनोज सिंह ने खाराकुआं टीआई समेत 4 पुलिसवालों को सस्पेंड कर दिया था।

पुलिस ने गुरुवार रात तक इस मामले में करीब 71 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। मृतकों में से 8 की पहचान हो चुकी है। मृतक मजदूर और भिक्षा मांगकर जीवन यापन करते थे।

 

मामले में लापरवाही बरतने और अधिकारियों को गुमराह करने पर खाराकुआं थाना प्रभारी एमएल मीणा, एसआई निरंजन शर्मा, आरक्षक शेख अनवर और नवाज शरीफ को निलंबित कर दिया गया है। इन्हें उज्जैन मुख्यालय में अटैच कर दिया गया। गिरफ्तार किए गए लोगों में जिसमें मुख्य रूप से झिंझर बनाने वाले सिकंदर, गबरू और यूनुस नाम सामने आया है। अब तक पकड़े गए कुल आरोपियों में से 49 इस जहरीली शराब बनाने के काम में लगे हुए थे।

आरोपी छतरी चौक स्थित नगर निगम की मल्टी लेवल पार्किंग में अवैध रूप से झिंझर पोटली बनाकर मजदूरों को सस्ते दामों में बेचा करते थे। यहां पर दबिश देने पर एक बोतल मिली है। पुलिस ने पूरे जिले में अवैध रूप से बन रही शराब माफियाओं के खिलाफ अभियान शुरू कर दिया है। पोस्टमार्टम करने वाले डॉक्टर ने अल्कोहल होने की पुष्टि की है।

Workers Dies

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि दोषियों को किसी कीमत पर छोड़ा नहीं जाएगा। उन्होंने गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव को मामले की जांच रिपोर्ट सौंपने के निर्देश दिए। अपर मुख्य सचिव गृह जांच करेंगे। एसआईटी बनाई गई है। मामले में पुलिस की स्पेशल टीम जांच करेगी। साथ ही मामले में जांच के लिए गृह विभाग के सचिव डॉ. राजेश राजौरा, अतिरिक्त मुख्य सचिव एसके झा सहित पांच अधिकारियों की टीम शुक्रवार को उज्जैन आएगी। दो दिन उज्जैन में रहकर मामले में रिपोर्ट तैयार करेगी।

महाकाल थाना क्षेत्र में गुरुवार सुबह झारड़ा निवासी रतन मालवीय का शव नरसिंह घाट और हरदा निवासी राकेश का शव ढाबा रोड से मिला। पुलिस ने शव को पीएम के लिए अस्पताल भिजवाया। वहीं, कुछ देर बाद अस्पताल में भर्ती दो अन्य मजदूरों ने भी दम तोड़ दिया। आशंका जताई जा रही है कि इनकी भी जहरीली शराब पीने से मौत हुई है।



Related