जनजातीय गौरव: भोपाल में मेगा शो-प्रदेश में प्रताड़ना, न जान सुरक्षित न जमीन


भोपाल में जनजातीय गौरव दिवस के मेगा इवेंट से पहले शिवपुरी -सीधी में आदिवासी प्रताड़ना, सरकार के आदिवासी प्रेम की कलई खोल रहा एनसीआरबी डाटा।


देश गांव
उनकी बात Published On :

भोपाल। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री शिवराज के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी एक ओर भोपाल में जनजातीय गौरव दिवस मनाने के लिए सरकारी खजाने से करोड़ों रुपए खर्च कर सोमवार को मेगा इवेंट कर रही है। वहीं दूसरी ओर मध्यप्रदेश में आदिवासियों की प्रताड़ना रुक नहीं रही है।

सरकार के इस मेगा इवेंट से एक शाम पहले ही दबंगों द्वारा पीटे गए आदिवासी की ग्वालियर में मौत हो गई। वहीं सीधी भाजपा विधायक केदारनाथ शुक्ला पर एक आदिवासी की जमीन पर कब्जा करने की शिकायत पुलिस अधीक्षक से की गई है। एनसीआरबी का डाटा भी सरकार के आदिवासी प्रेम की कलई खोल रहा है।

भोपाल में भले ही भव्य स्तर पर जनजातीय गौरव दिवस मनाया जा रहा हो लेकिन इससे ठीक पहले शिवपुरी के आदिवासी मजूदर की पिटाई से मौत हो गई। मजदूर ने दिवाली पर दबंगों से मजदूरी के पैसे मांग लिए थे। इस पर उसकी बेतहाशा पिटाई की गई। शिवपुरी के बमौरकलां का सहरिया आदिवासी हरिलाल पिटाई के बाद से ही ग्वालियर में भर्ती था जहां रविवार शाम उसकी मौत हो गई। यहां आदिवासी समाज हरिलाल की मौत से आक्रोषित है।

दूसरी ओर सीधी के भाजपा विधायक केदारनाथ शुक्ला के खिलाफ सीधी पुलिस अधीक्षक से शिकायत की गई है। आदिवासी समाज के एक परिवार ने विधायक केदारनाथ शुक्ला पर आरोप लगाया है कि उन्होंने छल कपट से उनके परिवार की जमीन को अपने और अपने भाई के नाम करा ली है। जबकि आदिवासी की जमीन किसी गैर आदिवासी के नाम कराया जाना गैरकानूनी है।

कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता केके मिश्रा ने भी इन दोनों मामलों के साथ जनजातीय गौरव दिवस का मेगा इवेंट आयोजित कर रही सरकार की कथनी और करनी पर सवाल उठाया है-

 

बात केवल इन दो मामलों की ही नहीं बल्कि नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) के आंकड़ों भी यह साबित करते हैं कि प्रदेश में आदिवासी उत्पीड़न के मामले लगातार बढ़ रहे हैं।

एनसीआरबी के मुताबिक बीते साल यानी 2020 में आदिवासियों के प्रति अत्याचार के 2,401 मामले दर्ज हुए जबकि 2019 में ये आंकड़ा 1,922 था अगर बात साल 2018 की हो तो यह आंकड़ा 1,868 ही था। यानी बीते दो सालों में आदिवासी समुदाय के खिलाफ प्रताड़ना के मामले करीब 28 फीसदी बढ़ गए हैं।

गौरतलब है कि प्रदेश सरकार सोमवार को राजधानी भेल के जंबूरी मैदान पर जनजातीय गौरव दिवस पर भव्य कार्यक्रम का आयोजन कर रही है। इसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी शामिल हो रहे हैं। पीएम मोदी करीब साढ़े 3 घंटे से भी ज्यादा समय तक भोपाल में रहेंगे। जनजातीय महासम्मलेन के बाद प्रधानमंत्री रानी कमलापति रेलवे स्टेशन का उद्घाटन भी करेंगे।