जनजातीय गौरव दिवसः राष्ट्रपति मुर्मु ने स्वीकारा सीएम शिवराज का न्यौता, चुनावी साल से पहले अहम हैं यह आयोजन


शहडोल में होने वाले कार्यक्रम में भाग लेंगी राष्ट्रपति, सालभर में आदिवासियों के नाम पर दूसरा बड़ा आयोजन


देश गांव
भोपाल Updated On :

भोपाल। प्रदेश में आदिवासी वोटबैंक सबसे अहम है और इसके लिए सत्ताधारी दल भाजपा पिछले एक साल से प्रयास कर रहा है। पहले आदिवासी नायकों के नाम पर जगहों के नाम रखे गए और उनके नाम पर योजनाएं शुरु हुईं। इन कार्यक्रमों में खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मप्र आकर आदिवासी वोटबैंक को साधने के लिए कवायद की। इसके बाद अब जनजातीय गौरव दिवस मनाया जा रहा है। इस कार्यक्रम में राज्य की ओर से राष्ट्रपति द्रोपदी मुर्मु को न्यौता दिया गया है। मुख्यमंत्री शिवराज ने बताया कि राष्ट्रपति ने आमंत्रण स्वीकार कर लिया है।

 सीएम चौहान ने रविवार को ट्वीट किया, ‘आज मेरी महामहिम राष्ट्रपति महोदया श्रीमती द्रौपदी मुर्मू जी से बात हुई। मैंने महामहिम राष्ट्रपति जी को मध्य प्रदेश आने का निमंत्रण दिया। हमारा सौभाग्य है कि मध्यप्रदेश का निमंत्रण महामहिम राष्ट्रपति महोदया जी ने स्वीकार किया है। महामहिम राष्ट्रपति महोदया श्रीमती द्रौपदी मुर्मू जी का मध्य प्रदेश का प्रथम आगमन हमारे लिए गौरव का विषय है।’

इसके बाद मुख्यमंत्री सहित प्रदेश का तमाम प्रशासनिक तंत्र जनजाति गौरव दिवस की तैयारियों में जुट गया है।

मुख्यमंत्री  ने आगे लिखा कि, ‘महामहिम राष्ट्रपति जी 15 नवंबर को जनजातीय गौरव दिवस के कार्यक्रम में शहडोल पधारेंगी। संपूर्ण मध्य प्रदेश राष्ट्रपति महोदया श्रीमती द्रौपदी मुर्मू जी का उद्बोधन सुनेगा। मध्य प्रदेश की धरती पर महामहिम राष्ट्रपति महोदया का स्वागत है।’

 

उल्लेखनीय है कि राज्य सरकार 15 नवंबर को जनजातीय गौरव दिवस मना रही है। इस मौके पर शहडोल में बड़ा कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है। प्रदेश की सभी पंचायतों में भी कार्यक्रम आयोजित होंगे।



Related