BJP MP कैलाश विजयवर्गीय ने ब्लैंक चेक व लाशों के ढेर नहीं दिखाने को लेकर दी सलाह


प्रदेश के पूर्व मंत्री विजयवर्गीय ने मीडिया को भी सलाह दे डाली और कहा कि मीडिया केवल लाशों के ढेर न दिखाए। इससे लोगों में नकारात्मकता और भय बढ़ रहा है।


देश गांव
इन्दौर Updated On :
kailash-vijayvargiya-indore-airport

इंदौर। कोरोना संक्रमण के कारण लगातार बिगड़ते हालात को लेकर भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने शहर के लोगों से प्रशासन व सरकार से सहयोग करने की अपील की है।

शहर में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा लगातार बढ़ रहा है और औसतन 1600 मरीज रोजाना सामने आ रहे हैं। मौतों की संख्या भी दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। मरीजों की बढ़ती संख्या के कारण न तो अस्पतालों में बिस्तर खाली बचे हैं और न ही उन्हें ठीक से उपचार ही मिल पा रहा है।

बंगाल चुनाव खत्म होने के बाद इंदौर पहुंचे भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने हवाईअड्‍डे पर मीडिया से चर्चा में कहा कि हम सभी एकजुट होकर ही इस संकट से उबर सकते हैं। अभी भी समय है कि हम संभल जाएं। हम स्थिति समझें और एक-दूसरे का सहयोग करें। सरकार, मंत्री, विधायक और प्रशासन सभी मिलकर इस परिस्थिति से लड़ रहे हैं और तमाम प्रयास कर रहे हैं कि सभी मरीजों को उचित इलाज मिल सके।

इसके साथ ही कांग्रेस विधायक संजय शुक्ला द्वारा रेमडेसिविर इंजेक्शन के लिए प्रशासन को ब्लैंक चेक देने के मामले पर विजयवर्गीय ने कहा कि संजय शुक्ला अमीर हैं। वह चेक दे सकते हैं।

उन्होंने साथ ही कहा कि वह इस महामारी में भी राजनीति करने का मौका नहीं छोड़ रहे हैं। सभी को इस समय राजनीति‍ से ऊपर उठकर काम करने की जरूरत है। हम इस समय जितना संभव हो सकारात्मक कर सकते हैं, करना चाहिए। किसी की टांग खिंचने से सभी को नुकसान होगा।

इसके साथ ही उन्होंने पूर्व मंत्री पीसी शर्मा द्वारा धरना देने पर भी तंज कसा और कहा कि ऐसी नौटंकी से कुछ नहीं होगा। यदि वह कुछ करना ही चाहते हैं तो इंजेक्शन और दवाई की व्यवस्था कर दें, जिससे मरीजों को मदद होगी।

साथ ही साथ प्रदेश के पूर्व मंत्री विजयवर्गीय ने मीडिया को भी सलाह दे डाली और कहा कि मीडिया केवल लाशों के ढेर न दिखाए। इससे लोगों में नकारात्मकता और भय बढ़ रहा है। मीडिया को चाहिए कि वह अव्यवस्थाओं के अलावा सकारात्मक चीजों को भी सामने लाए। डॉक्टरों और पैरामेडिकल स्टाफ के कार्यों को दिखाए। वे इतनी व‍िषम परिस्थितियों में ‍भी किस तरह से काम कर रहे हैं।