लॉक डाउन लागू, महू में टीआई ने सख़्ती से बंद करवाईं दुकानें, बेरंग हो गई सभी की होली


बहुत से दुकानदारों ने बताया कि बीते एक साल से अपने व्यापार को लेकर परेशान हैं और अब उन्हें होली  के त्यौहार से उम्मीद थी लेकिन अचानक लिए गए इस निर्णय से वे परेशान हो चुके हैं।


अरूण सोलंकी अरूण सोलंकी
इन्दौर Updated On :

इंदौर। शनिवार रात दस बजे से लॉक डाउन लागू हो गया है। पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों ने नियमों का हवाला देते हुए महू तहसील  में दुकानें बंद करवाईं गईं। अब तक यह इलाका लॉक डाउन के विशेष प्रभाव में नहीं था लेकिन त्यौहार के ऐन पहले महू के नागरिक भी परेशान हैं।

दुकानें बंद करवाने के दौरान टीआई महू दिलीप पुरी कई दुकानों पर दुकानदारों को काफी सख्ती से चेतावनी देते नज़र आए कि यदि दस बजकर एक मिनिट तक भी दुकान खुली रही तो उन पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी। उनकी इस धमकी का असर भी हुआ और दुकानें समय रहते बंद हो गईं।

हालांकि दुकानदारों को पुलिस से कुछ नरम दिली की उम्मीद थी। बाजार का आखिरी दिन होने के चलते दुकानदार शनिवार को अपनी दुकानें फैलाकर बैठे थे जिन्हें समेटने में थोड़ा समय लगता है लेकिन पुलिस और प्रशासन ने उन्हें इस तरह से धमकी देकर व्यापार के खराब दिनों का पूरा अहसास दिला दिया।

बहुत से दुकानदारों ने बताया कि बीते एक साल से अपने व्यापार को लेकर परेशान हैं और अब उन्हें होली  के त्यौहार से उम्मीद थी लेकिन अचानक लिए गए इस निर्णय से वे परेशान हो चुके हैं। अब होली का त्यौहार भी खराब हो गया है। इन व्यापारियों ने बताया कि शनिवार को उन्हें बेहतर बिक्री की उम्मीद थी लेकिन ग्राहक होली की खरीदी करने नहीं आए बल्कि वे लॉक डाउन के कारण जरुरी सामान खरीद रहे थे क्योंकि उन्हें डर था कि लॉक डाउन बढ़ा न दिया जाए क्योंकि जिला प्रशासन ने होली रोकने का निर्णय भी अचानक लिया था।

लॉक डाउन के फैसले को लेकर महू के नागरिक भी परेशान हैं। उनके मुताबिक त्यौहार खराब हो चुका है। पिछले साल बहुत से लोग नहीं रहे जिन्हें वे आख़िरी बार भी नहीं देख सके और अब होली की परंपरा के अनुसार उनके परिवारों से मिलने जाना है उन्हें रंग-तिलक लगाना है ताकि उनके जीवन में फिर कुछ रंग भर सकें लेकिन अब शायद ऐसा करना भी अपराध माना जा सकता है।

हालांकि एसडीएम अभिलाष मिश्रा ने लॉक डाउन को लेकर स्थिति स्पष्ट की है उन्होंने कहा कि होलिका दहन हो सकता है लेकिन नागरिक भीड़ न लगाएं यानी सार्वजनिक तौर पर न करें केवल अपने परिसर में कुछ ही लोगों की उपस्थिति में कर लें और परंपरा निभा लें। एसडीएम ने कहा कि उन्हें भी लॉक डाउन के कारण होली का त्यौहार बिगड़ना अच्छा नहीं लग रहा है लेकिन बड़ी मुसीबत से बचने के लिए यह प्रशासन की मजबूरी है जिसे हर हाल में निभाना होगा। एसडीएम मिश्रा ने लोगों से घरों में रहकर होली मनाने की अपील की है।

 

एसडीएम अभिलाष मिश्रा ने बताया लॉक डाउन में क्या कर सकते हैं और क्या नहीं सुनिये…