रतलामः पत्नी ने ढ़ाई लाख रुपये की सुपारी देकर करवाई थी सेल्समैन की हत्या


पुलिस ने बताया कि महिला ने अपने प्रेम संबंधों के चलते अपने प्रेमी के साथ मिलकर अपने पति की हत्या की सुपारी दी थी।


देश गांव
उज्जैन Updated On :

रतलाम। बीते 14 दिसंबर को औद्योगिक थाना क्षेत्र के मुंशीपाड़़ा के पास फाइनेंस कंपनी के कर्मचारी की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। पुलिस ने इश मामले की गुत्थी 36 घंटे में ही सुलझा ली है। पुलिस ने इस हत्या के आरोप में मृतक की पत्नी को ही गिरफ्तार किया है। पुलिस के मुताबिक पत्नी ने ही दो शूटरों को ढ़ाई लाख रुपये की सुपारी देकर इस घटना को अंजाम दिया था।

एसपी गौरव तिवारी ने गुरुवार दोपहर पत्रकारवार्ता में आरोपी पत्नी के बारे में बताया।  पुतिल14 दिसंबर की शाम 6.40 बजे फ्रीगंज रोड स्थित एयू फाइनेंस कंपनी का कर्मचारी 22 वर्षीय मुकेश निनामा निवासी ग्राम बड़लीपाड़ा काम पूरा कर अपनी बाइक से घर जा रहा था। इसी समय उसके सिर पर गोली मारकर उसकी हत्या कर दी गई थी।

एसपी तिवारी ने बताया कि पुलिस को उसके बाइक से गिरने से मौत होने की सूचना मिली थी। दूसरे दिन सुबह पोस्टमार्टम के दौरान उसके सिर में पिस्टल की गोली फंसी पाई गई थी और उसकी मौत गोली लगने से मौत होना पाया गया था। हत्या का प्रकरण दर्ज कर जांच के लिए एएसपी (शहर) डॉ. इंद्रजीत बाकलवार के मार्गदर्शन और सीएसपी हेमंतसिह चौहान व औद्योगिक क्षेत्र टीआई रेवलसिंह बरड़े के नेतृत्व में टीम गठित की थी।

टीम ने जांच की तो मृतक मुकेश की पत्नी सूरताबाई के आरोपित 40 वर्षीय अशोक पिता कारूलाल कसेरा निवासी दिलीप मार्ग शिवगढ़ रोड सैलाना से प्रेम संबंध होने की जानकारी मिली। पुलिस ने जब इस संबंध के बारे में गहराई से जांच की तो पाया गया कि महिला अशोक से फोन पर लगातार संपर्क में थी। इसके बाद अशोक को हिरासत में लेकर पूछताछ की गई तो उसने बताया कि वह सूरताबाई से प्रेम करता है और दो माह पहले सूरताबाई अपने मायके ग्राम सातबडली (ताजपुरिया) आई थी।

तब उनके प्रेमसंबंध को लेकर मुकेश को पता चला था तो उनके बीच विवाद हुआ था। इसके बाद अशोक ने मुकेश की हत्या कराने की साजिश रची। उसने शूटर आरोपित 35 वर्षीय लाला उर्फ लाल खां पुत्र शहजाद खां निवासी व 35 वर्षीय दिनेश चंद्रवंशी पुत्र शंकरलाल चंद्रवंशी दोनों निवासी ग्राम कुशलगढ़ थाना पिपलौदा को एक माह पहले ढाई लाख रुपये में मुकेश की हत्या करने की सुपारी दी।

मुकेश ने आरोपित लाला व दिनेश को फ्रीगंज रोड से गांव तक की रैकी कराई थी। 14 दिसंबर की शाम जब मुकेश कार्यालय से घर जा रहा था, तब आरोपित लाला व दिनेश बाइक पर उसके पीछे लग गए थे और पीछा करते हुए मुंशीपाड़ा के पास सुनसान स्थान पर पहुंचे और गोली मारकर भाग गए थे। इसके बाद लाला व दिनेश को भी गिरफ्तार कर लिया गया।

पुलिस के अनुसार आरोपित लाला उर्फ लाल खां के खिलाफ 2014 में पिपलौदा में एक व्यक्ति की हत्या करने का मामला पिपलौदा थाना क्षेत्र में दर्ज हुआ था। वहीं अशोक कसेरा पर 1999 में सैलाना थाने में अवैध शराब व अजाक थाने पर मारपीट व जातिसूचक शब्दों से अपमानित करने का मामला दर्ज हुआ था। लाला हत्या के पुराने मामले में जमानत पर है।

आरोपितों को पकड़ने व गुत्थी सुलझाने वाली टीम में सीएसपी चौहान व टीआई बरड़े के साथ एसआई जितेंद्र कनेश, अल्केश सिंघाड़़, रामसिंह खपेड़, होतीलाल विश्वकर्मा, आरके चौहान, एएसआई रायसिंह रावत, सुरेशकुमार शिंदे, प्रधान आरक्षक हितेंद्रसिंह, नानूराम मुनिया, आरक्षक शोभाराम शर्मा, दीपकसिंह, वीरेंद्रसिंह, गोपाल बारूपाल, दिनेश खिंची, सोनू राठौर महिला आरक्षक प्रतिभा व साइबर सेल के आरक्षक जुझारसिंह राठौर शामिल थे। टीम को एसपी ने दस हजार रुपए का इनाम देने की घोषणा की है।



Related