धरना देने पर दिग्विजय सिंह व सैंकड़ों समर्थकों पर FIR, कमलनाथ पर कोई केस नहीं


राजगढ़ जिले में डूब की जमीनों के मुद्दे पर श्यामला हिल्स स्थित दूरदर्शन भवन के सामने शुक्रवार को धरना-प्रदर्शन करने के मामले में पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह व उनके दो दर्जन समर्थकों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है।


देश गांव
भोपाल Published On :
kamalnath and digvijay singh dharna

भोपाल। राजगढ़ जिले में डूब की जमीनों के मुद्दे पर श्यामला हिल्स स्थित दूरदर्शन भवन के सामने शुक्रवार को धरना-प्रदर्शन करने के मामले में पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह व उनके दो दर्जन समर्थकों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है।

श्यामला हिल्स थाना ने शनिवार को कोरोना गाइडलाइन का उल्लंघन करने की धाराओं के तहत एफआईआर दर्ज किया है। दूसरी तरफ दिग्विजय सिंह के बंगले के सामने खड़े उनके समर्थकों के खिलाफ रास्ता रोकते हुए सरकारी काम में बाधा पहुंचाने का केस भी दर्ज किया गया है।

हालांकि, धरने में पूर्व मुख्यमंत्री व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ भी शामिल हुए थे, लेकिन उन पर कोई केस दर्ज नहीं किया गया है।

श्यामला हिल्स थाना प्रभारी एलडी मिश्रा ने जानकारी देते हुए बताया कि

शुक्रवार को पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह अपने सैकड़ों समर्थकों के साथ मुख्यमंत्री निवास की तरफ बढ़ रहे थे। पुलिस ने उन्हें दूरदर्शन ऑफिस के पास रोक दिया था। इस पर वह समर्थकों के साथ वहीं धरने पर बैठ गए थे।इस दौरान तय शारीरिक दूरी के नियमों का उल्लंघन किया गया। इससे कोरोना संक्रमण फैलने की आशंका बढ़ गई थी। इसके अलावा प्रदर्शन की विधिवत अनुमति भी नहीं ली गई थी। इस मामले में शनिवार को पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह व उनके समर्थकों के खिलाफ धारा-188, 269, 270 के तहत केस दर्ज किया गया है।

दूसरी तरफ, इस दौरान पूर्व मुख्यमंत्री के समर्थक उनके बंगले के सामने जमघट लगाए हुए थे। इससे आवागमन अवरूद्ध हो गया था। साथ ही सरकारी काम करने में भी बाधा उत्पन्न हो रही थी।

इस मामले में पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के समर्थक मुजाहिद, ब्रजेश लोधी, गुड्डू चौहान व अन्य के खिलाफ धारा-353, 143 के तहत केस दर्ज कर दोनों मामलों की जांच शुरू कर दी गई है। अन्य आरोपियों को चिन्हित करने के लिए प्रदर्शन के दौरान की गई वीडियोग्राफी के फुटेज देखे जा रहे हैं।

बता दें कि पूर्व सीएम व कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह और उनके समर्थक शुक्रवार को सीएम हाउस से एक किलोमीटर पहले धरने पर बैठे थे। उनकी योजना सीएम हाउस के बाहर धरना देने की थी, लेकिन पुलिस ने उन्हें एक किलोमीटर पहले ही रोक लिया था। धरना किसान और बांध विस्थापितों के मुद्दे पर दिया गया था।



Related