मंदसौरः हिंदू संगठन की रैली के दौरान ग्राम डोराना में उपद्रव, तोड़फोड़ के बाद तनाव


गांव के समुदाय विशेष के लोगों ने आरोप लगाया कि कुछ उपद्रवियों द्वारा घरों में घुसकर तोड़फोड़ की गई और घरों के बाहर लगे बिजली के मीटर भी तोड़ दिए गए।
वहीं, रैली में शामिल माऊखेड़ी के युवकों को वापस जाते समय ग्राम बादाखेड़ी फंटा पर समुदाय विशेष के लोगों ने रोककर पीटा और उनकी बाइक में आग लगा दी।


देश गांव
उज्जैन Published On :
mandsaur-rally-violence

– एसपी ने संभाला मोर्चा, स्थिति पूरी तरह नियंत्रण में, 57 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज।
मंदसौर। अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए चंदा संग्रहण को लेकर हिंदू संगठनों द्वारा देशभर के कई राज्यों में गांव-गांव में वाहन रैली निकाली जा रही है। मंगलवार शाम को जब हिंदू संगठनों की वाहन रैली ग्राम डोराना पहुंची तो यहां दो पक्षों के बीच तनातनी के दौरान पथराव और तोड़फोड़ की घटना हुई।

गांव के समुदाय विशेष के लोगों ने आरोप लगाया कि कुछ उपद्रवियों द्वारा घरों में घुसकर तोड़फोड़ की गई और घरों के बाहर लगे बिजली के मीटर भी तोड़ दिए गए।
वहीं, रैली में शामिल माऊखेड़ी के युवकों को वापस जाते समय ग्राम बादाखेड़ी फंटा पर समुदाय विशेष के लोगों ने रोककर पीटा और उनकी बाइक में आग लगा दी।

घटना के बाद दोनों पक्षों में तनाव की स्थिति को देखते हुए खुद एसपी सिद्धार्थ चौधरी और एडीएम बीएल कोचले मौके पर पहुंचे। यहां अधिकारियों ने आक्रोशित ग्रामीणों से बातचीत कर कार्रवाई का आश्वासन दिया। साथ ही तोड़फोड़ से हुए नुकसान का आंकलन करने के लिए एक टीम भी गांव में पहुंची।

पुलिस ने इस मामले में दोनों पक्षों के 57 लोगों पर प्रकरण दर्ज किए हैं। गांव में भारी पुलिस बल तैनात किया गया है।

जानकारी के मुताबिक, तीन दिन पूर्व गांव में रैली निकालने के दौरान धार्मिक स्थल के सामने डीजे बंद कराने की बात पर भी विवाद हुआ था, लेकिन उस समय लोगों ने समझा-बुझाकर मामला शांत करा लिया था।

मंगलवार शाम को जब फिर रैली ग्राम डोराना पहुंची तो यहां पुलिस बल तो तैनात था, लेकिन तनातनी के दौरान कोई एक्शन नहीं ले पाया इसलिए हालात थोड़ी देर के लिए बेकाबू हो गए।

घटना के संबंध में एसपी सिद्धार्थ चौधरी ने बताया कि 

ग्राम डोराना में दो पक्षों के बीच तनातनी की घटना हुई है। इसके बाद दोनों पक्षों की शिकायत पर अलग-अलग 57 लोगों के खिलाफ मुकदमें दर्ज किए गए है। हालात पूरी तरह नियंत्रण में है। गांव में एहतियात के तौर पर पुलिस बल भी तैनात किया गया है।



Related