मध्यप्रदेश के 8 जिलों में पीएफआई के ठिकानों पर हफ्ते भर में दूसरी बार छापेमारी, हिरासत में लिए गए 22 संदिग्ध


इंदौर से सईद टेलर निवासी छत्रीबाग, दानिश गौरी निवासी माणिकबाग, मोहम्मद तौशिफ छिपा निवासी छिपा बाखल, यूसुफ़ निवासी छिपा बाखल, जहीर वसीम निवासी ग्रीन पार्क कॉलोनी को गिरफ्तार किया गया है।


देश गांव
इन्दौर Published On :
nia raids on pfi

भोपाल। राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी यानी एनआईए और मध्यप्रदेश एटीएस ने भोपाल, उज्जैन, इंदौर समेत 8 जिलों में पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया यानी पीएफआई सदस्यों के ठिकानों पर हफ्ते भर में दूसरी बार सोमवार देर रात को छापेमारी की है और इस दौरान 22 संदिग्धों को हिरासत में भी लिया गया है।

प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने एनआईए और मध्यप्रदेश एटीएस द्वारा किए गए छापमारी की कार्रवाई की पुष्टि की है। जांच एजेंसियों की छापमारी की कार्रवाई जारी है।

जानकारी के मुताबिक, एटीएस को इन संदिग्धों की जानकारी पिछले हफ्ते पकड़े गए पीएफआई के चार आरोपियों की पूछताछ के दौरान मिली थी।

इंदौर से सईद टेलर निवासी छत्रीबाग, दानिश गौरी निवासी माणिकबाग, मोहम्मद तौशिफ छिपा निवासी छिपा बाखल, यूसुफ़ निवासी छिपा बाखल, जहीर वसीम निवासी ग्रीन पार्क कॉलोनी को गिरफ्तार किया गया है।

इंदौर से आठ संदिग्धों को पकड़ने के लिए छापेमारी की गई थी। इसमें से तीन हाथ नहीं लगे। उज्जैन के महिदपुर से चार संदिग्धों को पकड़ा गया है। नीमच से दो, शाजापुर से चार लोगों को हिरासत में लिया गया है।

बताया जा रहा है कि पूरे प्रदेश में 35 से ज्यादा लोग एजेंसियों की निगरानी में थे। एनआईए ने बीते बुधवार को भी मध्यप्रदेश के इंदौर से तीन और उज्जैन से एक पीएफआई के पदाधिकारी को गिरफ्तार किया था।

बता दें कि एनआई और ईडी ने मंगलवार को देशभर में पीएफआई के कई ठिकानों पर छापेमारी की जिसमें दिल्ली के शाहीन बाग में इस संगठन से जुड़े 30 लोगों को हिरासत में लिया है।

शाहीन बाग में इस एक्शन के बाद केंद्रीय पुलिस फोर्स को तैनात कर दिया गया है। वहीं महाराष्ट्र से 12, कर्नाटक के कोलार से 6 और असम से 25 पीएफआई कार्यकर्ताओं को पकड़ा गया है।



Related