राजगढ़ः स्प्रे मिलाकर बनाते थे नकली घी, पुलिस ने दर्ज किया केस


शहर के मुख्य बाजार में बैंक ऑफ इंडिया के सामने स्थित श्रीराम दूध डेयरी संचालक के खिलाफ मंगलवार को पुलिस ने नकली घी बनाने और दूध में पानी-पावडर मिलाकर गाढ़ा करने के आरोप में आपराधिक प्रकरण दर्ज किया है।


रवि श्रीवास्तव रवि श्रीवास्तव
राजगढ़ Published On :
adulterated-ghee
प्रतीकात्मक तस्वीर


राजगढ़। शहर के मुख्य बाजार में बैंक ऑफ इंडिया के सामने स्थित श्रीराम दूध डेयरी संचालक के खिलाफ मंगलवार को पुलिस ने नकली घी बनाने और दूध में पानी-पावडर मिलाकर गाढ़ा करने के आरोप में आपराधिक प्रकरण दर्ज किया है।

बीते पांच दिसंबर को डेयरी संचालक कमल सिंह पिता लक्ष्मीनारायण दांगी की श्रीराम डेयरी पर खाद्य सुरक्षा अधिकारी मनोज रघुवंशी की टीम ने छापेमारी की थी।

इस छापेमारी में नकली घी बनाने वाले तरल पदार्थ की 20 बॉटल, 11 किलो नकली घी और दूध को गाढ़ा करने के लिए उपयोग में आने वाला तकरीबन 50 किलो पावडर आदि सामग्री जब्त कर जांच के लिए सैंपल लिए थे।

मामले में सैंपल जांच के लिए भोपाल भेजे गए थे, जिनकी रिपोर्ट आनी बाकी है। वहीं, आपराधिक प्रकरण दर्ज करने के लिए एक प्रतिवेदन पुलिस को दिया गया था।

खाद्य सुरक्षा अधिकारी मनोज रघुवंशी की रिपोर्ट पर पुलिस ने डेयरी संचालक कमल सिंह के खिलाफ खाद्य सुरक्षा मानक अधिनियम के तहत कार्रवाई की। यह कार्रवाई शासन द्वारा दिए गए निर्देशों के बाद की गई है।

पिछले दिनों जिले के कई स्थानों पर खाद्य एवं औषधि प्रशासन विभाग ने छापेमारी की थी, इनमें जांच के लिए खाद्य पदार्थों के नमूने भी लिए गए थे, लेकिन आपराधिक प्रकरण दर्ज करने का एक ही मामला सामने आया है।

लोगों के बीच अब ऐसी चर्चा है कि खाद्य पदार्थों के सैंपल जांच के लिए अकसर भेजे जाते हैं। इनमें कई सैंपल की रिपोर्ट में सामग्रियां अमानक होने की जानकारी भी सामने आती है, लेकिन समय बीतने के साथ ही कार्रवाई अकसर ठंडे बस्ते में चली जाती है।



Related