राजगढ़: माथनिया गांव जाकर कलेक्टर ने सुनी ग्रामीणों की शिकायतें, दिया निराकरण का आश्वासन


ग्रामीणों की मांग पर कलेक्टर ने जल संसाधन विभाग के कार्यपालन यंत्री मोहनपुरा से जवाब मांगा। कार्यपालन यंत्री के अनुसार प्रस्ताव शासन को भेजा है। पुलिया और रास्ते के टेंडर हो चुका है। कलेक्टर ने आश्वासन दिया कि वह स्वयं इस समस्या के निराकरण में रुचि लेकर ऊपर बात कर हल निकालेंगे।


देश गांव
राजगढ़ Updated On :
रात्रि चौपाल के दौरान ग्रामीणों की समस्याएं सुनते कलेक्टर नीरज कुमार सिंह


राजगढ़। मंगलवार, 17 नवंबर को कलेक्टर नीरज कुमार सिंह ने राजगढ़ विकासखंड के दूरस्थ गांव माथनिया पहुंच कर रात्रि चौपाल लगाकर ग्रामीणों की समस्याएं सुनी। चौपाल में ग्रामीणों ने मांग की कि उनका गांव माथनिया मोहनपुरा डेम के पानी से घिरा है। गांव में आने के लिए सड़क नहीं है। कच्चे रास्तों और खेतों से होकर आते है। रास्ता डूब में आ गया है। उन्होने कहा कि उनके खेत डेम के दूसरी तरफ है। ऐसे में उन्हें मकानों का मुआवजा देकर खेतों के पास बसाया जाए।

कलेक्टर ने ग्रामीणों की समस्याओं के निराकरण के लिए मौजूद अधिकारियों को समय सीमा में कार्य करने के निर्देश दिए। इस दौरान एसडीएम पल्लवी वैद्य व अन्य अधिकारी मौजूद थे।

ग्रामीणों की मांग पर कलेक्टर ने जल संसाधन विभाग के कार्यपालन यंत्री मोहनपुरा से जवाब मांगा। कार्यपालन यंत्री के अनुसार प्रस्ताव शासन को भेजा है। पुलिया और रास्ते के टेंडर हो चुका है। कलेक्टर ने आश्वासन दिया कि वह स्वयं इस समस्या के निराकरण में रुचि लेकर ऊपर बात कर हल निकालेंगे।

कलेक्टर ने नरी ग्राम पंचायत मुख्यालय पर रात्रि विश्राम किया। ग्रामीण कलेक्टर को अपने बीच पाकर खुश हुए। उन्होंने साफा बांधकर और श्रीफल व साफी पहनाकर कलेक्टर का स्वागत किया।

बिजली कम मिल रही, वॉल्टेज भी कम

ग्रामीणों को बिजली कम मिलने की शिकायत पर डीई एमपीईबी ने बताया कि 10 घंटे 3 फेस और घरेलु कार्य में लिए 24 घंटे बिजली दी जा रही है। ग्रामीणों की मांग की है कि 10 घंटे बिजली फुल वॉल्टेज के साथ दी जाए।

कलेक्टर ने इस संबंध में बिजली विभाग को निर्देश देते हुए ग्रामीणों को भी नियमित बिल जमा करने की समझाइश दी। खाद्यान्न वितरण चर्चा के दौरान ग्रामीणों ने बताया कि 80 में से 71 परिवारों को एक रुपये किलो गेहूं, चावल मिल रहा है। कुछ लोगों ने सरकारी खाद बिक्री केंद्र गांव के पास के किसी गांव में करने की मांग की। जिसे कलेक्टर ने स्वीकार कर लिया। कृषि बीमा क्लेम की मांग पर कलेक्टर ने जानकारी दी कि विगत वर्ष का कृषि बीमा 3-4 दिन में किसानों के खाते में आ जाएगा।

किसानों को दी आमदनी बढ़ाने की जानकारी

चौपाल में उपसंचालक कृषि हरिश मालवीय ने किसानों को खेती के नए तरीके बताते हुए आमदनी बढ़ाने के गुर सिखाए। उपसंचालक ने स्थानीय भाषा का उपयोग करके किसानों को देशी पशु के स्थान पर अच्छी नस्ल के गाय, भैंस पालने की समझाइश दी। उन्होंने कहा कि खेती में फसल चक्र अपनाएं। इससे फसल में रोग नहीं लगेगा। कलेक्टर ने सभा की समाप्ति के बाद ग्राम पंचायत नरी में रात्रि विश्राम किया।



Related