कोरोना संक्रमण के कारण लगातार दूसरे साल अमरनाथ यात्रा रद्द, ऑनलाइन ही कर पाएंगे दर्शन


लगातार दूसरे साल भी पवित्र अमरनाथ यात्रा रद्द कर दी गई है और इसका कारण है कोरोना संक्रमण। यह यात्रा 28 जून से शुरू होकर 22 अगस्त तक चलनी थी।


देश गांव
बड़ी बात Updated On :
amarnath-yatra-called-off

नई दिल्ली। लगातार दूसरे साल भी पवित्र अमरनाथ यात्रा रद्द कर दी गई है और इसका कारण है कोरोना संक्रमण। यह यात्रा 28 जून से शुरू होकर 22 अगस्त तक चलनी थी।

कोरोना के सामान्य होते हालात को देखते हुए श्री अमरनाथ जी श्राइन बोर्ड ने इसकी तारीखें तय की थीं और 1 अप्रैल से इस पवित्र यात्रा के लिए एडवांस रजिस्ट्रेशन भी किए जा रहे थे। इसके बाद देश में संक्रमण की दूसरी लहर आ गई।

श्री अमरनाथ जी श्राइन बोर्ड के अनुसार पवित्र गुफा में सभी पारंपरिक धार्मिक कर्मकांड पहले की तरह ही किए जाएंगे। श्री अमरनाथ जी श्राइन बोर्ड का कहना है कि वह दुनिया भर में भक्तों के लिए ऑनलाइन दर्शन की व्यवस्था करेगा।

जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने सोमवार को ट्वीट कर जानकारी दी कि कोरोना को देखते हुए इस साल अमरनाथ यात्रा रद्द करने का फैसला लिया गया है।

बता दें कि कोरोना संक्रमण की वजह से 2020 में भी यह यात्रा रद्द कर दी गई थी। इसके अलावा 2019 में जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद-370 के हटने के बाद सुरक्षा कारणों की वजह से यात्रा को बीच में ही रोक दिया गया था, जिसके कारण कई श्रद्धालु बाबा बर्फानी के दर्शन नहीं कर सके थे।

भगवान शिव के इस पवित्र तीर्थ का इतिहास हजारों साल पुराना माना जाता है। अमरनाथ की गुफा में बर्फ से प्राकृतिक शिवलिंग बनता है। यहां लगातार टपकती बर्फ की बूंदों से 10-12 फीट ऊंचा शिवलिंग निर्मित होता है। गुफा में शिवलिंग के साथ ही श्रीगणेश, पार्वती और भैरव के हिमखंड भी निर्मित होते हैं।



Related