सिद्धार्थ मलैया ने क्यों बताया जान का ख़तरा, पिछले साल लगाए थे रामबाई मुर्दाबाद के नारे


भाजपा नेता सिद्धार्थ मलैया ने गुरुवार को एक प्रेस वार्ता रखी। जहां उन्होंने गोविंद सिंह को संगठित अपराध में लिप्त बताया…


देश गांव
दमोह Updated On :

दमोह। विधायक रामबाई परिहार के पति और देवेंद्र चौरसिया हत्याकांड के आरोपी गोविंद सिंह परिहार पर भाजपा नेता सिद्धार्थ मलैया ने गुरुवार को एक प्रेस वार्ता रखी। जहां उन्होंने गोविंद सिंह और उनके परिवार को संगठित अपराध में लिप्त बताया।

उन्होंने कहा कि संगठित अपराध से समाज को खतरा है और समाज का कोई भी आदमी इस संगठित अपराध के समय में खुद को सुऱक्षित महसूस नहीं कर सकता। 

सिद्धार्थ ने इस दौरान खुद अपने लिए भी खतरा बताया उन्होंने कहा कि उनके परिवार पर भी हमला हो सकता है और वे भी सुरक्षित नहीं हैं। हालांकि संभव है कि उन्होंने यह बात यह एक अपराध के त्रस्त समाज के एक नागरिक के तौर पर उदाहरण के लिए रखी हो लेकिन दमोह में उनकी इस बात की काफी चर्चा है।

सुनिये सिद्धार्थ ने क्या कहा…

 

यह चर्चा इसलिए भी है क्योंकि सिद्धार्थ रामबाई और उनके परिवार के खिलाफ़ मुखर होकर बोलते रहे हैं। पिछले साल 26 जून को वे चौरसिया परिवार के पास पहुंचे थे और उन्होंने उनका साथ देने की बात की थी। उस समय उन्होंने रामबाई मुर्दाबाद के नारे भी लगाए थे।

देखिए उनका यह वीडियो…

हालांकि सिद्धार्थ ने अपना वादा निभाया और उन्होंने अपने स्तर पर नैतिक रुप से इस परिवार का साथ भी दिया है। यह समय वह था जब दमोह या प्रदेश के किसी भी बडे़ नेता ने चौरसिया परिवार का खुलकर साथ देने से लगभग इंकार कर दिया था।

बुधवार को कार्रवाई के दिन रामबाई भी यह कहती नज़र आईं थीं कि यह कार्रवाई किसी की व्यक्तिगत दुश्मनी की तरह नज़र आ रही है और उसी व्यक्ति की वजह से यह सब हो रहा है।

अब रामबाई किसके बारे में कह रहीं थीं यह साफ़ नहीं है और न ही यह साफ़ है कि सिद्धार्थ मलैया ने किन संगठित अपराधियों से अपने और अपने परिवार को जान का खतरा बताया है।



Related